E-commerce Meaning in Hindi | What is E-commerce in Hindi | E-commerce Kya Hai

E-commerce Kya Hai

दोस्तों आजकल भारत में इ-कॉमर्स का बिकास बहुत तेजी से बढ़ रहा है लेकिन ज्यादातर लोगों को E-commerce के बारे में मालूम ही नहीं है जैसे E-commerce Kya Hai, What is E-commerce in Hindi। इसीलिए आपको एक बार जरूर जानना चाहिए E-commerce Meaning in Hindi के बारे मैं।

अगर आपको जानना है ई-कॉमर्स की विशेषताएं के बारे में तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें हम इसमें आपको पूरी जानकारी के साथ बताएंगे ई-कॉमर्स क्या होता है और क्यों ई-कॉमर्स के बारे में हर एक व्यक्ति जानना चाहते हैं।

तो आइए बात करते हैं E-commerce Kya Hai और ई-कॉमर्स की विशेषताएं के बारे मैं।

E-commerce Meaning in Hindi

क्या आप जानते हैं E-commerce का मतलब(E-commerce Meaning in Hindi) हिंदी में क्या होता है। E-commerce का अर्थ होता है ई-वाणिज्य या इसको आप ई-ब्यबसाय भी बोल सकते हैं।

E-commerce क्या है / What is E-commerce in Hindi

दोस्तों पहले कुछ भी शॉपिंग करने के लिए आपको दुकान तक जाना पड़ता था लेकिन अब जमाना बदल गया है अब आप घर बैठे बैठे कुछ भी सामान खरीद सकते हैं। जिस ऑनलाइन प्लेटफार्म के जरिये आप सामान खरीदते हैं उस प्लेटफार्म को E-commerce कहा जाता है।

E-commerce का मतलब होता है आप कुछ भी सामान को इंटरनेट के जरिये खरीद सकते हैं या बेच सकते हैं। जिसमें आपको कहीं पर जाने की जरुरत नहीं पड़ता है। आप सीधे यह भी कह सकते हैं ऑनलाइन के जरिये प्रोडक्ट या सर्विस की शॉपिंग करना या बेचना को हम E-commerce बोलते हैं।

E-commerce का फुलफॉर्म होता है electronic commerce जिसको आप internet commerce भी कह सकते हैं। कॉमर्स का मतलब होता है ब्यबसाय जिसमें आप प्रोडक्ट या सर्विस का लेनदेन करते हैं। लेकिन ये E-commerce मतलब इंटरनेट कॉमर्स आखिर क्या होता है यह ज्यादातर लोगों का सवाल रहता है।

इंटेरनेट के जरिये होने वाले ब्यबसाय को हम इ-ब्यबसाय या ई-कॉमर्स बोलते हैं जिसमें बहुत बड़े बड़े नाम शामिल है। आइये जानते हैं कुछ बड़े बड़े e-commerce platform के बारे में जिनका नाम आप कभी न कभी जरूर सुने होंगे।

Amazon 

Flipkart  

Snapdeal 

Paytm

Myntra

E-commerce के प्रकार

अब आपको समझ आ गयी होगी इ-कॉमर्स क्या है लेकिन आइए जानते हैं वही इ-कॉमर्स प्लेटफार्म कितने मॉडल में उपलब्ध है या आप यह भी कह सकते हैं E-commerce कितने प्रकार का होते हैं।

  • Business to Business (B2B)

जब एक बिज़नेस और दूसरे बिज़नेस के बिच ऑनलाइन लेनदेन होता है उसको हम ई-कॉमर्स में Business to Business model बोलते हैं इसको आप B2B E-commerce भी कह सकते हैं।

इस इ-कॉमर्स मॉडल में कोई भी consumer शामिल नहीं होते हैं। इसमें सिर्फ ब्यबसायी के ब्यबसायी बिच Online trasaction होता है।

  • Business to Consumer (B2C)

ऑनलाइन बिज़नेस में यह मॉडल ज्यादा प्रचलित है। जब आप कुछ सामान ऑनलाइन से खरीदते हैं तो वह प्रक्रिया इस बिज़नेस मॉडल में शामिल है। क्यूंकि इसमें सिर्फ लेनदेन ब्यबसायी और उपभोक्ता के बिच होता है।

उपभोक्ता सामान की सब कुछ बारीकी से चेक करके ऑर्डर करते हैं और ब्यबसायी उसको ऑनलाइन के जरिये उन तक पहुंचाते हैं। जिसमें दोनों का फ़ायदा होता है।

इस B2C model में काम करने वाला ई-कॉमर्स प्लेटफार्म है Amazon, Flipkart, Paytm, Myntra आदि इ-कॉमर्स वेबसाइट।

  • Consumer to Consumer (C2C)

Consumer to Consumer बिज़नेस मॉडल काफी कम समय में बहुत तेजी से बढ रही है क्यूंकि इस इ-कॉमर्स मॉडल में किसी भी तरह का ब्यबसायी शामिल नहीं होते हैं। इसमें सिर्फ उपभोक्ता और उपभोक्ता के बिच Trasaction होता है जिसके बजह इसका नाम C2C बिज़नेस मॉडल है।

जिसमें उपभोक्ता एक दूसरे के साथ सम्पर्क कर सकते हैं और अपने प्रोडक्ट की खरीद-बेच करते हैं इस मॉडल में काफी धकाधड़ी(Fraud) होने का भी सम्भाबना रहता है।

इस Busienss Model को OLX, Quikr आदि इ-कॉमर्स प्लेटफार्म इस्तेमाल करते हैं।

  • Consumer to Business (C2B)

C2B बिज़नेस मॉडल में सिर्फ उपभोक्ता और बिज़नेस के बिच कारोबार होता है। जिसमें उपभोक्ता अपने प्रोडक्ट और सर्विस की प्राइस बनाकर कंपनी के जरिये प्रमोट करके अपने माल बेचता है। और प्रमोटिंग के लिए कंपनी को कुछ कमिशन मिलता है और बाकि उपभोक्ता का फ़ायदा होता है।

Consumer to Business मॉडल काफी पॉपुलर होने लगा है और इस ऑनलाइन बिज़नेस मॉडल को google adsense, और Advertising Company आदि फॉलो करते हैं।

E-commerce के फायदे और नुकसान :-

दोस्तों अभी आपको पता चल गया होगा E-commerce Kya Hai तो चलिए अब बात करते हैं इसके कुछ फायदे और नुकसान के बारे में। इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स अब ज्यादा पॉपुलर होने लगा है इसीलिए इसका ज्यादा बेनिफिट्स आपको देखने को मिलेगा। आइए बात करते हैं ई-कॉमर्स के कुछ फायदे के बारे में उसके बाद बात करेंगे उसके नुकसान के बारे में।

E-commerce के फायदे – Advantages of E-commerce in Hindi

1. घर बैठे शॉपिंग हो जाता है

ई-कॉमर्स में सबसे जो बड़ा फायदा मिलता है वह है आपको खरीदारी के लिए कहीं पर जाना नहीं पड़ता है आप घर बैठे ही शॉपिंग कर सकते हैं। COVID के चलते आजकल ज्यादातर लोग ऑनलाइन ही शॉपिंग करना पसंद कर रहे हैं। इसमें आपको शॉपिंग के लिए डिलीवरी एड्रेस सेट करके भुगतान कर देना है उसके बाद सामान आप तक पहुंच जायेगा।

2. समय की बचत हो जाता है

अगर आपके पास समय नहीं है दुकान जाकर कुछ शॉपिंग करने के लिए तो आपके लिए e-commerce फायदेमंद है क्यूंकि इससे आपका ढेर सारा समय का बचत हो जाता है। आपके पसन्दीदे सामान के लिए आप अलग अलग दुकान तक जाने की जरुरत नहीं पड़ता है क्यूंकि इसमें आपको ढेर सारा सामान का बिकल्प मिल जाता है जिसमें से आप अपने पसंद के सामान चुन सकते हैं।

3. 24×7 सर्विस मिलता है

इ-कॉमर्स के जरिये आप जब चाहे तब शॉपिंग कर सकते हैं इसका सेबा हमेशा उपलब्ध रहता है। लेकिन ऑफलाइन दुकान का कुछ समय सीमा रहता है कब खोलना है कब बंद करना है। Electronic commerce में आपको साल के 365 दिन सुबिधाएं मिलती है।

4. शॉपिंग करने के लिए भीड़ में खड़ा होना नहीं पड़ता है

पहले कुछ भी खरीदने के लिए लंबे लाइनों में खड़ा होना पड़ता था लेकिन अब इ-कॉमर्स के माध्यम से आप बहुत आसानी से कुछ भी सामान खरीद सकते हैं वह भी बिना लाइन में खड़े हो कर।

5. प्राइस cheap रहता है

अब आप यह जरूर चेक करना एक प्रोडक्ट का आप ऑनलाइन प्राइस देखें उसके बाद एक दुकान में जाकर वही प्रोडक्ट का प्राइस पूछिए देखना आपको किसमें सस्ता में प्रोडक्ट मिलेगा। E-commerce में आपको शोपिंग करने के लिए भारी भरकम कैशबैक भी देखने को मिल जाता है।

जिसके बजह से प्रोडक्ट की प्राइस ऑफलाइन के तुलना में ऑनलाइन बहुत कम हो जाता है। इसीलिए अब ज्यादा लोग इ-कॉमर्स से खरीदारी करना पसंद कर रहे हैं।

6. मनपसंद सामान चुन सकते हैं

E-commerce में आपको ढेरों प्रोडक्ट का बिकल्प मिल जाता है जिससे आपको मनपसंद के सामान चुनने में कोई दिक्कत नहीं होती है। आप घर बैठे बैठे ढेरों प्रोडक्ट का लिस्ट चेक कर सकते हैं। जो भी आपको पसंद आए उसको खरीद सकते हैं।

7. Payment के लिए ढेर सारे बिकल्प मिल जाता है

आप कुछ सामान खरीद चुके हैं लेकिन आपके पास पैसा नहीं है उसको देने के लिए तो आप उसको जरूर ऑनलाइन के जरिए पेमेंट करेंगे लेकिन अगर उसके पास ऑनलाइन पेमेंट असेप्टिक करने का कोई सुविधा नहीं होगा तो आपका सर्फिंग ही नहीं हो पाएगा

E-commerce में आपको यह समस्या देखने को नहीं मिलता है आपको उसमें ढेरों तरीके से भुगतान करने की सुविधा मिल जाता है। आप ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं नहीं तो आप तक सामान पहुंचने के बाद cash दे सकते हैं।

E-commerce के नुकसान – Disdvantages of E-commerce in Hindi

हर चीज़ का फायदे के साथ साथ नुकसान भी रहता है उसी तरह इ-कॉमर्स से कुछ नुकसान भी उठाना पड़ता है आइए देखते हैं किस बजह से ग्राहकों को मुसीबतों का सामना करना पड़ता है।

1. सामान के लिए इंतजार करना पड़ता है

ऑफलाइन दुकान में पेमेंट करने के बाद जो भी आप खरीदते हैं वह प्रोडक्ट हो या सर्विस आपको तुरंत मिल जाता है लेकिन ई-कॉमर्स के मामले में सामान आपको तुरंत नहीं मिलता है उसके लिए आपको इंतजार करना पड़ता है।

इ-कॉमर्स में आपको भुगतान करने के बाद भी आपको सामान तुरंत नहीं मिलता है

2. धोकाधड़ी का डर रहता है

बहुत बार यह देखा गया है की कुछ इ-कॉमर्स वेबसाइट उनके ग्राहकों को सही सेबाएं प्रदान नहीं कर पाते हैं जिसके बजह से उनके मन में धोखाधड़ी होने का डर रहता है।

इ-कॉमर्स में आप आर्डर करते हैं कुछ लेकिन आप तक पहुंचता है कुछ और प्रोडक्ट जिसके बजह से लोगों के मन में यह डर रहता है की जो आर्डर किया हूं उसके बदले और कुछ न आ जाए।

3. साइबर क्राइम का डर रहता है

E-commerce या इंटरनेट कॉमर्स में साइबर क्राइम का खतरा रहता है क्यूंकि इस प्लेटफार्म में सब कुछ इंटरनेट के जरिये होता है। अगर आपको ऑनलाइन के बारे इतना कुछ पता नहीं है तो ऑनलाइन से फ्रॉड करने वाले लोग पहले आपको उनका शिकार बनाते हैं।

इसीलिए इ-कॉमर्स से कुछ भी खरीदारी करने से पहले आपको ऑनलाइन शोपिंग के बारे में कुछ जानकारी लेना बहुत जरुरी है।

4. डिजिटल ज्ञान का ज्ञात होना जरुरी है

अगर आप इ-कॉमर्स का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो यह नुनिश्चित कर लें की आपके पास तकनीक जानकारी के बारे मैं कुछ ज्ञान होना चाहिए बरना आप उस प्लेटफार्म में ऑनलाइन कोई भी trasaction नहीं कर पाएंगे।

आप तौर ज्यादातर लोगों को technology के उपर ज्यादा Knowledge नहीं होता है जिसके बजह से उनको ऑनलाइन भुगतान या ऑनलाइन शॉपिंग में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

5. Return और Refund में खतरा रहता है

दुकान से सामान खरीदने के बाद अगर आपको वह सामान पसंद नहीं आता है तो आप उसको बापसी करने के लिए दुकानदार को बोलते हैं और दुकानदार return भी ले लेता है और आपका पैसा तुरंत refund कर देता है।

लेकिन इ-कॉमर्स प्लेटफार्म में आपको return और refund के लिए कुछ मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन सभी E-commerce प्लेटफार्म एक जैसा काम नहीं करते हैं किस में आपका issue जल्दी समाधान हो जाता है और किसी में समय लगता है।

निष्कर्ष ,

दोस्तों मुझे यकीन है आपको यह वाला आर्टिकल पसंद आया होगा जिसमें हम बिस्तार रूप से बात किए हैं E-commerce Kya Hai, What is E-commerce in Hindi और E-commerce Meaning in Hindi के बारे मैं। उसके साथ साथ ई-कॉमर्स के कुछ फायदे और नुकसान के उपर भी चर्चा किए।

अगर आपका कोई सवाल है E-commerce के सम्बंधित तो जरूर हमसे कमेंट के जरिये बताइए, इ-कॉमर्स बिज़नेस  आने वाले कुछ समय में बहुत तेजी से बढ़ने वाला है। यदि आप आज से इसके उपर काम करते हैं तो आने वाले कुछ सालों में आप जरूर सफलता के शिखर पर होंगे।

और यह आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जिससे उनको भी पता चले ई-कॉमर्स की विशेषताएं के बारे में धन्यवाद।

Previous articleएयरटेल पेमेंट बैंक में पैसे कैसे डाले | How to Add Money in Airtel Payments Bank
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम Chandan Jena है और मैं इस ब्लॉग पर हर दिन कुछ जानकारी प्रदान करता हूं। और मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी लिखी पोस्ट पसंद आई होगी। आज के डिजिटल जमाना में हर जानकारी हिंदी के साथ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here